नेपाल में भूकंप से 128 लोगों की मौत, हजार से अधिक घायल, मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका

बीती रात शुक्रवार (3 नवंबर 2023) को 11:54 मिनट पर नेपाल में आए 6.4 तीव्रता के भूकंप ने काफी नुकसान पहुंचाया है. खबर लिखे जाने तक 128 लोगों की मौत की खबर है और 1000 से अधिक लोग घायल हो गये हैं. नेपाल सरकार के मुताबिक राहत और बचाव कार्य जारी है. सरकार के प्रवक्ता के मुताबकि प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड प्रभावित इलाकों का शनिवार (4 नवंबर 2023) को दौरा करने वाले हैं.

नेपाल में शुक्रवार रात 6.4 तीव्रता का जोरदार भूकंप आया, जिसके झटके राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित उत्तर भारत के कई हिस्सों में महसूस किए गए. रात करीब 11 बजकर 32 मिनट पर आए भूकंप के कारण लोगों को अपने घरों से बाहर निकलना पड़ा. राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान (एनसीएस) के मुताबिक, भूकंप का केंद्र नेपाल में अयोध्या से लगभग 227 किलोमीटर उत्तर और काठमांडू से 331 किलोमीटर पश्चिम उत्तर-पश्चिम में 10 किलोमीटर की गहराई में था.

नेपाल में एक महीने में तीसरी बार तेज भूकंप आया है. भूकंप के झटके दिल्ली से सटे नोएडा और ग्रेटर नोएडा के कुछ हिस्सों में भी महसूस किए गए, जिसके चलते ऊंची इमारतों में रहने वाले कई लोग बाहर निकल आए. नोएडा सेक्टर-76 में एक ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के निवासी ने कहा, वास्तव में बहुत तेज झटके महसूस हुए. यह एक बेहद डरावना एहसास था.

भूकंप के झटके उत्तर प्रदेश के लखनऊ, बस्ती, बाराबंकी, फिरोजाबाद, अमेठी, गोंडा, प्रतापगढ़, भदोही, बहराइच, गोरखपुर और देवरिया जिलों के अलावा बिहार के कटिहार, मोतीहारी तथा पटना में भी महसूस किए गए.

नेपाल के जाजरकोट भूकंप में नलगढ़ नगर पालिका की डिप्टी मेयर सरिता सिंह समेत 128 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. नेपाल पुलिस के मुताबिक, भूकंप के कारण पुराने मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं.

रुकुम पश्चिम जिला आठबिसकोट नगर पालिका 11 की लक्ष्मी बिक और उनकी 4 नाबालिग बेटियों समेत 15 लोगों की मौत हो गई. भूकंप से नेपाल के जाजरकोट के खलंगा में एक शख्स की ‘मौत’ हो गई है. जजरकोट के मुख्य जिला अधिकारी सुरेश सुनार ने कहा कि उन्हें मौत की जानकारी मिली.