75 वर्ष बाद भी आरक्षण के नाम पर वोट की राजनीति दुर्भाग्यजनक – अनारक्षित वर्ग संघ

जगदलपुर
नव वर्ष से छत्तीसगढ़ अनारक्षित वर्ग संघ के बैनर तले, संघ से जुड़े सदस्यों ने स्थानीय गोलबाजार चौक से सदस्यता महाअभियान की शुरूआत कर दी है। संघ के सदस्य लगातार बैठकें कर समान्य वर्ग को एकजुट करने की रणनीति बना रहे हैं, इसी के तहत प्रदेश स्तर पर संगठन बनाने का निर्णय भी लिया गया है।

सदस्यों ने बताया कि समान्य वर्ग अपने हितों को लेकर अब एक जुट होने लगा है महज दो घंटे में सैकड़ों की संख्या में सदस्यता इसका साक्षात प्रमाण है। सदस्यों ने कहा कि यदि सरकारें आजादी के 75 वर्ष बाद भी आरक्षण को सीढ़ी बनाकर लोगों को गुमराह करके वोट बटोरने में लगी हुई है, तो यह देश के लिये दुर्भाग्य का विषय है। समानता का अधिकार संविधान में सब को दिया गया है तो फिर समान्य वर्ग के साथ यह उपेक्षापूर्ण बर्ताव क्यों। आखिर समान्य वर्ग के बारे में क्यों नही सोचा जा रहा है।

उन्होंने आगे बताया कि समान्य वर्ग अब जाग रहा है, विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़े सदस्य एवं शासकीय कर्मचारियों ने भी संघ की सदस्यता लेकर यह बता दिया है कि समान्य वर्ग की उपेक्षा हर ओर हो रही है, और यदि आज कदम नही उठाया गया तो वर्तमान एवं आने वाली पीढ़ी का भविष्य अंधकारमय हो जाएगा। सदस्यों ने बताया कि जल्द राज्य के हर वार्ड में सदस्यता अभियान चलाया जाएगा और लोगों को एकजुट करने का प्रयास किया जाएगा। जल्द संगठन गठन की प्रक्रिया भी पूर्ण होगी जिसमें विधिक प्रकोष्ठ भी बनाया जाएगा जिसके नेतृत्व में कानूनी संघर्ष को आगे बढ़ाया जाएगा। इस दौरान सामान्य वर्ग संघ के रोहित सिंह आर्य, करमजीत कौर, आशा आचार्य, नोहर सिंह राजपूत, सुशील खम्बारी, प्रकाश जोशी, हितेन्द्री, मोहन लाल जोशी, शोभा शर्मा, गौरव मुखर्जी, निर्मल जैन, मितेश सहित बड़ी संख्या में अन्य सदस्य मौजूद रहे।